Saturday, December 25, 2010

दर्द तुझे भी होता होगा……

 

जब सूनी तन्हा रातों में

सब खाली खाली लगता होगा

बात किसी से करने को जब

पास न कोई होता होगा

याद तो मेरी आती होगी

दिल में टीस तो कोई उठती होगी

पत्थर दिल तो तू भी नहीं

दर्द तुझे भी होता होगा

 

राहों में देख कभी मुझे

तू भी घंटो सोचती होगी

तकिए में छुपा चेहरा अपना

तू भी घंटो रोती होगी

हो जाए सब पहले जैसा

एक आस तो मन में उठती होगी

चोट तो तूने भी खायी है

दर्द से तू भी रोती होगी

 

न शिकवे किए तूने कुछ

न कभी मेरे सुने

फिर क्यूँ बता तो एक बार

छोड़ तूने अपने, गैर चुने

कर याद उन बीतें लम्हों को

जेहन तेरा भी सिहर उठता है ना

एक बार बता दे, चाहे चुपके से

दर्द तुझे भी होता है ना

दर्द तुझे भी होता है ना

दर्द तुझे भी होता है ना

Sunday, December 12, 2010

तू भी तो कुछ बोल कभी…….

चूने सी, दीवारों से झड, हाथो में कभी आ लगी

बैठ सिरहाने तकिये के, तू रातों रातो संग जगी

और बैठ कभी घंटो ऐसे ही, बातें तूने मेरी सुनी

पर तन्हाई, तू भी तो कुछ बोल कभी, क्यूँ ऐसे खामोश खड़ी

 

समझ न पाया साथ तेरा, खुदा कि रहमत है, रुसवाई है

एक तू ही सदा से संग रही, बाकी दुनिया हरजाई है

दुःख में साथ दिया था तूने, या तू उसकी ही परछाई है

कैसे समझूं री बता, तू कहाँ कभी बतलायी है

 

फिर भी दर्द मेरे बांटे तूने, जब भी कोई चोट लगी

एक मौका मुझको भी दे, क्यूँ ऐसे खामोश खड़ी

ऐ तन्हाई कुछ बोल कभी, क्यूँ ऐसे खामोश खड़ी

क्यूँ ऐसे खामोश खड़ी, क्यूँ हमेशा खामोश रही

 

Special thanks to Rans for the theme of the poem…..

Monday, November 29, 2010

WikiLeaks and Issues of ethics in Foreign Policy

 
The global journalism entered into a new phase 4 years ago with the birth of WikiLeaks. The journalism became ‘participative’, an element it always cries for in the governance. The WikiLeaks was launched like any other wiki site, editable by all, irrespective of his technical knowledge but with a rather catchy slogan – “We open Governments” . Later on it moved to a non-wiki framework. It shot to fame with release of documents about Iraq War and recently with the leaks of about quarter a million US embassy cables. The revealing of dirty diplomacy played by USA has once again raised the issues of ethics in foreign policy.
Let us look into this issue.  Wikipedia defines foreign policy as the strategies chosen by state to safeguard its national  interests and achieve its national goals in international relations. Undoubtedly the paramount goal here is “national interest” and in the modern times state might need to engage with non-state actors to secure the national interests.
We hardly see any example of an ethical foreign policy in the world history except what India pursued during the Nehruvian times. India had to face the severe results in form of two wars and worsening economic situation. Nehru himself confessed his failure in Parliament when he said that we had been living in a hypothetical world, which is cruel and wont let you live peacefully. Soon India moved to a more pragmatic foreign policy under Indira Gandhi and it reached its crescendo under Manmohan government when the decisions are not made based on the morality rather the benefits it promises to achieve for the country.
So the history teaches us that a foreign policy can never be run on ethical lines, neither it can be put to public scrutiny regularly, nor I think its desired. The other name of Foreign Policy – Diplomacy has a fundamental requirement of secrecy. Never let anyone know what are you thinking. The governments need to make tough negotiations to achieve the end goal of national interests. Its a complex matrix and a layman can discuss it over a cup of tea but can hardly appreciate its countless dimensions. Does anyone has an explanation of why India – the largest democracy hosted a visit for a neighbourhood dictator? The only explanation is that we could not have let China eaten the Burmese fruit alone in the South Asian Eden garden, so we also ate it and fell through heaven of democracy to recognise a military government.
So what if USA sends authoritarian messages to other sovereign governments or spies upon political leaders in other nations or negotiate with non-state actors including terrorists, we can’t pretend as if we didn’t know this happens in dark echelons of world politics. How otherwise USA would have had succeeded in getting India NSG and IAEA waivers? Certainly other nations would have demanded some favours in return and certainly India will return some favours.
Kudos to Mr Asange, for ‘opening the governments’ and secure the people’s right to know. But we have to also see its repercussions. Most of the confidential matter is confidential only for 20-30 years, after which public comes to know about it as a fait accompli. Opening up such things while they are still being discussed will definitely obstruct the progress of the dealings. For example, the recently released cables tell about negotiations regarding US-Russia secret peace deal. That was certainly in world’s favour but now things will change as both the governments face some hardliner challenges in their own country. Republicans are never happy about any US-Russia peace deal and certainly will not let Democrats go ahead with it.
The other aspect of a “Secret Foreign Policy” is the intent behind ‘secrecy’. If the government is doing it to preserve the interests of its nation, its well and good. This type of secrecy is followed in most of the countries including USA and India. But if the government is doing it to preserve its own interests irrespective of its people, then its too bad. This type of attitude can be seen in Pakistani foreign policy, where the ruling government is essentially driven by the motive of securing its position and amass huge wealth and for that it can allow a foreign country to conduct drone attacks on its civilians . Sometimes the latter element can be seen in other countries as well but that’s not the deciding factor.
In the coming times, many nations, governments and larger than life politicians will be humiliated for what they think they were doing secretly. But it will hardly change the way the game of global politics is played. For no powerful country or government(USA, China, Iran etc) gives a damn to open revelation of something everybody already knew. This is like watching a movie where you know all turning points in advance but still watch it just to enjoy seeing how characters are playing their part.

Sunday, November 21, 2010

Corruption : Is there a way out?

 

Media in the past one month has been gifted a series of scams by our politicians. While the scam thing has become a way of life for us, it still generates a feeling of disappointment deep within us, wondering what the future will be. The main problem is we don’t see a way out of this problem. knowing its almost impossible to defeat this leviathan System, which has the blood of corruption flowing in its veins.

The questions which come to my mind are where is the start of this chain of corruption? What is the root cause – is it really the plummeting ethical standards of society or  we need to find answers the Marxist way – through economics? Is this only Indian society which has been plagued by corruption or its a global phenomena, finding its genesis in modern politico-economic systems? Let us try to find out the answers to these questions.

Recently when I was sitting along with a close relative of mine who happens to be a government officer and is “reasonably corrupt”(takes only the ‘legitimised commission’ while ensuring that work is done properly), the CWG news was flashing across the channels. He said calmly, “I don’t why they are shouting so much. Look at our elections, do they think the elections can be fought without tons of black money. Every government official is forced to donate to ruling party fund, where that money will come from?”

His remarks made me think whether Democracy is the thing where it all starts? For once the theory looks perfect, a democracy needs elections, elections are fought based upon the primordial-cum-development issues and the campaigning needs huge amount of money, money is needed for every aspect of electioneering, the allowed amount of money is far from pragmatic and hence the black money chips in. Now to recover that money, every involved entity in the election resorts to more illegal ways. Hence the chain strengthens and becomes a self serving cyclic system.

Take the example of Karnataka government, the way Mr. Yedurappa engineered defections through ‘Operation Kamal’ to come to power, it was nothing but obvious that we’ll see such huge number of scams in the coming years.

So apparently morality is an issue but not the central one. At the centre lies the democracy. Not that other forms of polity like autocracy and communism are free from this phenomenon, but still in those cases if the ruler wants, he can put the house in order, similar thing is not possible in a democratic setup, as to come to power in a mature democracy like India, he’ll need money and hence there are grim chances of anything going right.

After this assertion, another doubt comes to mind that if democracy is the culprit then why democratic developed countries are not corrupt or not so corrupt as the developing ones. Well, I think corruption thrives in all these systems, as we know from their movies since the ‘Godfather’ days. The difference seems to be merely of degree. And they have passed through this phase of rapid economic growth when they faced the same problem of large scale corruptions. Now as they have high standards of living and a nearly ideal Capitalist system, corruption seems to be making least impact on their lives. Honestly, I don’t know anything about Scandinavian countries, how they maintain such high standards of life, but I believe rest of the developed countries are no different than ours.

 

Cool, but what should we do?

The theories are fine, but what is the solution, or it doesn’t exist at all? I hardly have the answer, the only solution I can think of is time. With the passage of time, I hope our country will attains an equitable society and then this phenomena will whittle away. Also we can expect that our next generations will get progressively more honest than we are, as I see that current generation has definitely improved over it previous one. Till then we have the system looking after itself, first to siphon out the money and then to reveal it. Things are not so bad, at least we know something wrong has happened :-), even if can’t prevent it from happening.

Sunday, November 14, 2010

आँखें मूंदे सुबहो से

 

आँखें मूंदे सुबहो से

सोती  जगती रातो से

करते, हाँ करते हैं बातें तेरी

ख्वाब जो इतने प्यारे हैं

मिलके हँसते सारे हैं

करते, हाँ करते हैं बातें तेरी

भीनी से जो, ये शामें हैं, आती रहे

धीमी सी जो, ये राहें हैं, चलती रहे

हवा का झोंका कोई, उड़ा के तुझे लाया है

ग़मों कि धूप में, खुशियों का तू साया है

हम पर जो छाया है

 

 

खुदा से हमने मांगे थे

पल कुछ हमने चाहे थे

ऐसे, हाँ ऐसे ही खुशनुमा

जेब से उसकी टपके हैं

मुश्किल से जो लपके हैं

ऐसे, हाँ ऐसे ही खुशनुमा

तू साथ है, तो लगती है, झोली भरी

छोटी सी थी, अब लगती है, देखो बड़ी.

हवा का झोंका कोई, उड़ा के तुझे लाया है

ग़मों कि धूप में, खुशियों का तू साया है

हम पर जो छाया है

Monday, November 8, 2010

आधी रात की कविता (उत्तरार्ध)

(This is an extension of poem already posted here)

जब चाँद फलक पर आता है

और तारे गुनगुन करते हैं

जब बागों में जाकर भंवरे

कलियो से भुनभुन करते हैं

जब हवा भी शांत हो स्तब्ध कहीं रुक जाती है

और हल्की सी आहट भी चौकन्ना सा कर जाती है

जब मौहल्ले के चौकीदार की आवाज़ भी गुंजन लगती है

और दूर जाती रेल की छुकछुक भी मनोरंजन करती है

जब कुत्ते भी भौंकना बंद कर जाके कहीं सो जाते हैं

और चारो और खड़े अंधेरे आपस में बतियाते हैं

जब रात का सूनापन मन पर भी छा जाता है

और कर कर चाँद से बातें दिल भी थक जाता है

तब सोचता हूँ क्यूँ मैंने तुमको याद किया

बस एक पल सोचा तुम्हे और सारा दिन बर्बाद किया

शायद अधचेतना(subconsciousness) में ही पड़े रहने देता तुम्हे

तो रातों को बैठ बैठ, यूँ मदिरा न पिया करता मैं

 

याद में तेरी भूल गए हम, क्या अपने क्या बेगाने

पीते हैं आंसू या मदिरा, और भला हम क्या जाने

मन कि है ये कड़वाहट मेरी, या मदिरा का मीठापन

गंगाजल भी खारा लगता है, अब तो मदिरा के आगे

 

जिस दिन से तू छोड़ गई, और सपने लगे तेरे आने

साकी हमें देने लगी, बिना गिने, भर भर पैमाने

कुछ छलक गए, कुछ टूट गए, कुछ पी गए हम पैमाने,

पर ना समझ पाए अब तलक,

साकी ने भरे थे मदिरा से या तेरी याद से पैमाने

 

अब तो अनंत शून्य में देख देखकर, घुट घुट कर हम जीते हैं

कभी भुलाने को तुझको, कभी याद करने को पीते हैं

कविताएँ तुझ पर कर कर, मेरे शब्दकोष भी रीते हैं

अब मदिरा ही है प्रियतम मेरी, इसके लिए ही हम जीते हैं

इसके लिए ही हम जीते हैं

Friday, October 29, 2010

Arundhati Roy……..a perennial critic

 

Well, there is something about her, you will always find her on the opposite side of the majority view. She has become the Goddess of Small Things in her own way. Pick up any issue may it be Naxalism, Kashmir, Sardar  Sarovar Project, Indian nuclear policy, death sentence to Afjal guru and so on, she will always oppose the India as state. Her opposition does not seem to be anti government but anti state in its basic premise.

While speaking for the Kashmiri independence, I doubt she has given a thought regarding the history of region. Moreover let us put the issue whether it belongs to India or Pakistan aside for a moment, and think deeply, is Kashmiri independence really a solution to anyone’s problem? As far as Kashmiris are concerned, one might look at the conditions of people in PoK and their brethren on this side of border. Also everyone knows once liberated, Pakistan will undertake the region in its influence and there will be no end to miseries of the people. And what is the guarantee that Pakistan will not use this region to spread more violence and chaos in surrounding region? Pakistan’s apathy to the region can be easily understood by the fact that it sold a major part of its occupied Kashmiri territory to China and rest is already under heavy Chinese influence, waiting to be transferred. Kashmiris  are better in India and its in best interest of India and Kashmiris also that they should not ask for separation. I accept the human right violation incidents but the demands must be acceptable, then only you stand any chance to get them fulfilled.

The only solution to the problem is a responsible behaviour from local politicians and central government. The anti India sentiments must not be used for Vote bank and neither to gain unnecessary international fame. I support the right of free speech and in no way should Ms Roy be charged for sedition. But there are two aspects to every thing, one is law and other is morality. Law is there, means we would have to follow it, government cannot really charge her for sedition for her little speech, but shouldn’t Ms Roy exercise some restraint before reigniting the issue which is silently settling down, at least for the interests of millions of Kashmiris? Its a matter of conscience Ms Roy, just decide what is humanity and what are human rights.

Her support to Naxalism is equally annoying, Naxalists are against the ‘Indian State’ and not Indian government. They hardly ever kill any politician or some powerful person(Its not that I want this to happen), only people who have to face the Naxalite problem are the people they claim to fight for. And do you really think Ms Roy, Mr Mao will allow you to make such speeches when Naxalite demands of a separate state are fulfilled?

The list against her arguments is long, probably I can write a Devil of Big things, (Devil is what she claims Indian government/State is, and big we already are). But the bottom line will always remain that the talent of such an extraordinary Indian must become vehicle of positive change and not a tall building standing on which she will make herself definitely taller but will also become an obstruction to people’s view to see what lies beyond………….

Wednesday, October 20, 2010

हाय रे काजल

 

हाय रे काजल तेरा  काजल…..images

 

पल पल जो ये झपकती हैं

हँसे जो तू तो संग हँसती हैं

बरसती हैं तेरी बातों के संग

मुस्कान के संग खेला करती हैं

जिन आखों की हो गई सारी दुनिया कायल

उनका पहरेदार, तेरा अनोखा काजल

हाय रे काजल तेरा  काजल…..

 

चुप रहती है तू पर बातें ये करती हैं

दिल में तेरे क्या है झपक झपक कर कहती हैं

झूम उठती है जिंदगी आसमान सा बाहों में पाकर

जब पलट पलट कर कनखियों से तू देखा करती है

तेरे सुन्दर मन का दरवाजा हैं तेरी आँखें

और उस दरवाजे की बंधनवार है तेरा काजल

हाय रे काजल तेरा  काजल…..

 

आँखों से तेरी जैसे फूलों कि खुशबू आती है

आँखों कि धूप तेरी, अँधेरे मेरे पी जाती हैं

कभी सुनाती हैं बांसुरी तो कभी वीणा की झंकार मुझे

कभी मीठे मीठे से प्यारे गीत सुरीले गाती हैं

रूप तेरा मधुशाला है तो आँखें उसकी हैं हाला

पीता हूँ जब जब मैं इसे, साकी सा सजता तेरा काजल

आँखों का पहरेदार ये काजल

बंधनवार ये काजल

हाय रे काजल तेरा  काजल…..

Sunday, October 10, 2010

जीवन तेरा है विजय पथ

 

क्या हुआ जो विजय नाद है आज धीमा पड़ा

क्या हुआ जो विश्व सारा, है मुंह बाएँ खड़ा

क्या हुआ जो पराजय के प्रेत हर ओर नाचते हैं

क्या हुआ जो इस भंवर में तू अकेला है खड़ा

 

कौन चलना सीखा है आज तक गिरे बिना बता

क्यूँ पंगुओं के हास्य से फिर तू डरता है भला

जीवन पथ पर आगे चलना ही देख तेरा धर्म है

मत सोच अब तू पाप पुण्य, बस अपना धर्म निभा

 

चमक सकेगा क्या मेरे जैसा, सूर्य चुनौती देता तुझे

कर हिम्मत और जा मुठ्ठी में भर ले तू उसे

ताप सूर्य कि सजा नहीं, तेरे लक्ष्य कि वो प्रीत है

शीत सा होगा वो स्पर्श, जो होती तेरी जीत है

जल गया तो भी न सोचना, तू खोयेगा पहचान तेरी

जलने का साहस बनेगा, विश्व में पहचान तेरी

सुयश कुयश के बारे में  अब सोचना है व्यर्थ सुन

चीखने दे चमगादडों को, बस अपने मन कि ही सुन

 

माना है ये रात अँधेरी, तारा तक नहीं कोई दिख रहा

बादलों के पीछे बैठा, चाँद भी है डर रहा

उठा मशाल ऐसे में, जोडता चल असंख्य दीये

जल उठें एक साथ सारे, इस अँधेरे को पीयें

 

चाहे तो ब्रह्म भी कर ले आज अपना यत्न सुन

हटना नहीं तू पीछे पर, थम न पाए तेरा प्रयत्न सुन

यौवन है सुन अश्व तेरा, साहस तेरा है युध्द रथ

हुंकार तेरी जय घोष है, जीवन तेरा है विजय पथ

जीवन तेरा है विजय पथ

जीवन तेरा है विजय पथ |

Tuesday, October 5, 2010

ख्वाब टूटा ऐसा कि …..

 

चांदनी उस रात में

जब बहारें झूम रही थी

एक पल में अचानक

चाँद कहीं खो गया

और अमावस सी स्याह हुई थी

वो रात, जब चाँद भी था सो गया

 

हुई रात वो काली इतनी

हाथ को हाथ ढूँढता रहा

रास्ते वहाँ थे भी या नहीं

नहीं किसी को पता लगा

 

सालों से सहेजे ख्वाब

बिखर गए जो ठोकर खाई

ख्वाब टूटा ऐसा कि

नींद रात भर ना आई

 

जानता हूँ मैं कि उस चाँदनी में भी

ना सपनो का महल कोई बना पाता

जानता हूँ साथ होते तुम तो भी

न कोई प्रेम गीत तुम्हे सुना पाता

पर साथ होते तुम

तो धडकनों का शोर भी

राग मधुर सा एक बन जाता

महल न होते साथ तो भी क्या है

साथ तुम्हारे जीवन ऐसे ही कट जाता

 

अब सोचते हैं

कैसे बीतेगा बाकी समय

और रीतेगी (रीतना = emptying) ये रात

कब होगी जाने सुबह

और होगी धूप की बरसात

Monday, October 4, 2010

No interference……Please….

The recent war of words between government and Supreme Court regarding distribution of rotting food grains has again brought the issue of judicial interference and its necessity under debate. As a matter of fact almost everyone aware of constitutional institutions agrees over the fact that judiciary must exercise restrain while dealing with policy matters. This paper tries to see why judicial activism is necessary and whether it is required to impose any limits on this in an administrative setup that exist in India?

 

The history of judicial activism in India

The history of judicial activism in India can be traced to mid 1970s when Public Interest Litigations (PIL) found legitimacy in our judicial system, thanks to Justice P. N. Bhagwati and Justice V. R. Krishna Iyer. PILs have seen mainly three phases of the manner in which it was used. In first phase, till 1980s PILs were used as an instrument to get justice for disadvantaged sections of society.

The next phase of PILs is found in 1990s when PILs started to address issues related to anything and everything of public importance including environment and Right to Education. This was a decade of political uncertainty in country, so judiciary came forward to fill the gap in governance, especially in later half of the decade.

Come 2000 and PILs became an instrument of achieving selfish private interests. The courts were full of frivolous PILs and it became an instrument to get publicity. This was the time when everyone started talking about ‘managing’ PILs.

 

The need of judicial activism

The administrative structure in India is known for its apathy towards the public concerns and mass scale corruption. These problems in bureaucracy have been traditionally attributed towards two things, lack of transparency in the decision making process and complete absence of a grievance redressal mechanism.

The Right to Information Act tried to address both the problems but partially. The citizens now have a right to know why some official action was taken and if officials are not ready to reveal the information, there is a grievance redressal mechanism. The question arises over how effective these tools have been. While RTI registered a phenomenal success in initial years in bringing bureaucracy on its toes, the piling number of cases and continued bureaucratic apathy poses danger of making this mechanism ineffective completely.

Next question is once people have the information that something wrong has happened, what to do with that? In the absence of any other mechanism they are left with nothing but judiciary to approach for. And how helpless will people feel if judiciary also says, “Sorry, we cannot help you, it’s a policy matter and we don’t have a jurisdiction in that area.”

Take the example of recent controversy over rotting food grains. In past decade, country is facing a problem of fluctuating food grain reserves. We had surplus food grain reserves in years 2003-04 and 2008-09 and deficit in 1998 and 2007. These anomalies were result of a flawed price structure policy and a malfunctioning Public Distribution System (PDS). In years of surplus, Government used some mechanism get rid of this surplus, part of which was exporting it at reduced price to international market (where it was used to feed cattle) and increase the supply in PDS. The same condition has occurred in 2009-10. Now if a citizen is concerned about that why such bad decisions are made which produce a paradoxical state of surplus rotting food reserves, double digit inflation in food commodities and around 40% of starving population, what he should do. Should he wait for the next election when Ruling Party will come to him to clarify its stand or he should he try to take the judicial route to pursue government to put its act together.

The basic problem is that nobody heeds the ‘common man’. Is there any forum on which a villager can go and ask the government that why did you choose to refurnish the road in a village from where ruling party has won instead of another much more needy village without any road but from where it lost? There is neither a system of hierarchical accountability in administration, nor a system where the administration is bound to respond to the complaints.

In this scenario is our Prime Minister really justified in saying that judiciary must not interfere in policy matters? Instead of clarifying the reasons which led to the rotting food grains in country, he went on to tell judiciary to mind its own business. If government really wants that judiciary must not interfere in its business, it needs to conduct its own business with more accountability and responsibility. There is an urgent need to put a system into place that makes public officials more accountable to citizens.

Monday, September 27, 2010

सिलसिले

 

कुछ किरदार मिले थे फिर से

शुरू एक कहानी करने को

बेरंग सी अपनी दुनिया में

कुछ रंग नए भरने को

 

किरदार मिले, मिलकर हँसे

हँसते हँसते सबने कहा

लो जुड गया अब हम सबसे

खुशिओं का एक और सिलसिला

 

वक्त यूँ ही बीतता रहा

हंसी में, ठहाकों में

गुम हो गई तन्हाई कहीं

बेवजह सी गूंजती आवाजों में

 

भूल गए किरदार सभी

किरदार हैं वे सिर्फ यहाँ

अफ़साने लिखने वाला

उनकी परवाह करता कहाँ

 

फिर हुआ वो ही

जो जानते थे सभी एक दिन होना होगा,

शुरू हुआ जो सिलसिला

एक रोज खत्म होना होगा

 

फिर भी जब वो

बेदर्द सी घडी आयी

आँखें बनी पत्ते शबनमी

पर बूँद न कोई गिरने पायी

 

फीकी सी मुस्कान लिए

बोले सभी

चलो कुछ अच्छा ही होगा,

पर मन में सब सोच रहे थे

लो खत्म हुआ एक और सिलसिला

जाने कब नया शुरू होगा

जाने कब नया शुरू होगा…….

Tuesday, September 14, 2010

बातें

बातें तुम से करते करते, बातों की हद हो गई

मीठी तेरी बातें इतनी, कि रात शहद हो गई

 

ख़ामोशी चुपके से जाके, कोने में कहीं सो गई

बातों में तेरी मेरी वो, डूबी ऐसी कि खो गई

तेरी हंसी के धागों से बनाए हुए लिबास में

बातें सजी ऐसी कुछ कि झलक चाँद की हो गई

 

क्या खूब सिलसिला था वो, रुकने कि कवायद(problem) हो गई

वक्त देखने को थमा ऐसा, उसकी खुद से जहद हो गई.

बातें तुम से करते करते, बातों की हद हो गई

मीठी तेरी बातें इतनी, कि रात शहद हो गई

 

बातें मन पे छाई ऐसी कि बातें फलक(sky) हो गई

मासूमियत से महकी ऐसी कि खुद महक हो गई

बातें तेरी झूमी ऐसी कि बातें छनक हो गई

रंगों से तेरे खिली ऐसी कि बातें धनक हो गई

 

हाथ थामकर तेरा जो चले, ख्यालों कि सरहद खो गई

चलते चलते जाने कब रात बीती, कब सहर(dawn) हो गई

बातें तुम से करते करते, बातों की हद हो गई

मीठी तेरी बातें इतनी, कि रात शहद हो गई

Wednesday, September 8, 2010

यादें

बिछा रखी हैं पलकें हमने

आज भी उन राहों पे

जिन पर हंसते हंसते चल कर

तुम मिलने आया करती थी

 

आज भी हम उस पेड के नीचे

जगह रोक कर बैठे हैं

जहाँ बैठ कर तुम अपने

बालों में हाथ घुमाया करती थी

 

वहाँ पे हंसते देख किसी को

दिल मेरा भर जाता है

जहाँ बैठकर तुम मन पर मेरे

हंसी उकेरा करती थी

 

सुनते सुनते बात तुम्हारी

जब कुछ कहने को मैं मुडता हूँ

देख अजनबियों को चारो ओर

मन पर ख़ामोशी सी छा जाती है

 

मानने को मन मेरा

होता नहीं तैयार ये

तुम नहीं हो वहाँ पर

जहाँ तुम रोज हुआ करती थी

 

काश कि होती कोई eraser

मिटा सके जो यादो को

क्योंकि संग तेरी यादों के

अब जीना लगता easy नहीं

Friday, September 3, 2010

ऐसा क्यूँ होता है

[A flashback to childhood thoughts………]

बाद  में रटवाना बाकी सब कुछ

पहले बताओ एक बात

तीन के बाद आता क्यूँ चार है

क्यूँ आता नहीं है पांच?

तीन तीन जुडकर क्यूँ बनते हैं छ

क्यूँ बनते नहीं हैं नौ?

दस मैं एक और सौ में दो

जीरो आती हैं क्यों?

 

सूरज दिन मैं उगता है

तो रात को कहाँ छुप जाता है?

देता है इतनी रोशनी जो

तो तेल कहाँ से लाता है?

 

लगता है, है चाँद गरीब

बेचारा दाग नहीं धो पाता है

डरता है सूरज से शायद

जो उसके जाने पर ही आता है

 

चलती है इतनी अच्छी हवा जो,

तो पंखे क्यूँ नहीं दिखते हैं?

बारिश करने को बादल में

बोलो पानी कैसे भरते हैं?

 

धरती अगर गोल है तो

मैं इस पर खड़ा हूँ कैसे?

अगर घूमती है ये तो बोलो

मैं थमा हुआ हूँ कैसे?

 

कभी सोचता हूँ शायद

मैं पंछी जैसा उड़ पाता

उड़कर शायद दूर से मैं

समझ सभी यह पाता

Tuesday, August 31, 2010

मुठ्ठी भर सपने

आशाओं की धूल से समेटकर

उठाये थे हमने

मुठ्ठी भर सपने

भींचकर रखा था हथेली में

इस डर से की

कहीं उड़ा ना ले जाये उन्हें

जलाने वाली तपती हवा

या बहा न ले कहीं

मन को ठंडक देने वाली

रिमझिम रिमझिम बारिश

पर सपने अगर छुपा के रखो

तो किसी मरे हुए की तस्वीर के जैसे

दीवार पर चिपक जाते हैं

और रात दिन टीसते रहते हैं

मुठ्ठी एक दिन खोलनी पड़ी

लगा किसी ने उम्मीदों की स्याही में उंगली डुबोकर

तक़दीर की तख्ती पर लिख दिए थे सपने

लकीरें अब भी हल्की ही थी

हमने मिटने के डर से फिर मुठ्ठी भींच ली

पर हम दौड चले

उन्ही सपनो के पीछे

जो लिखे थे हाथों की लकीरों में

बहुत खुश थे हम दौड़ते दौड़ते

कि अचानक ठोकर लगी

और मुठ्ठी खुल गयी

और तेज बारिश होने लगी

लकीरें अब उस सफ़ेद पानी में घुल रही हैं

हम बेबस से हो ये देख रहे हैं

पर साहस नहीं है

कि मुठ्ठी फिर से बंद कर लें

और फिर से दौड़ना शुरू कर दें

सपनों के साथ साथ ही

बिखरे हुए से लगते हैं हम भी

समझ नहीं आता कि खुद को समेटे

या सपनो को

हिम्मत नहीं होती

फिर से ठोकर खाने की

तो फिर दौड़ना कैसे शुरू कर दें

तो फिर दौड़ना कैसे शुरू कर दें

Friday, August 27, 2010

हंसी जो तू

हंसी जो तू

यूँ लगा

बादल गिरा हो कहीं

हंसी जो तू

यूँ लगा

खिल पड़े हो कँवल कई

हंसी जो तू

यूँ लगा

आसमां के रंग सभी

तूने हो

लिए समेट

आँचल में अपने कहीं

हंसी जो तू……………….

 

ये हवा यूँ बह रही या

या बह रही हो जैसे तुम

इस ठंडी ठंडी छुअन से

क्यूँ हो रहा मैं गुम

आगोश में मेरे

है ख्याल तुम्हारा या तुम

ये धुन तुम्हारी बोली की

रहा जो धीरे धीरे सुन

हंसी जो तू………..

 

कच्चे धागे में पिरो के

रखी थी एक माला

हंसी तू कुछ ऐसे

जैसे झटके से टूटी माला

मोती फिर सभी

बिखरे एक एक

तेरी ये हंसी

फैला गयी खुशियाँ अनेक

हंसी जो तू…………………

Friday, August 20, 2010

आधी रात की कविता

जब चाँद फलक पर आता है

और तारे गुनगुन करते हैं

जब बागों में जाकर भंवरे

कलियो से भुनभुन करते हैं

जब हवा भी शांत हो स्तब्ध कहीं रुक जाती है

और हल्की सी आहट भी चौकन्ना सा कर जाती है

जब मौहल्ले के चौकीदार की आवाज़ भी गुंजन लगती है

और दूर जाती रेल की छुकछुक भी मनोरंजन करती है

जब कुत्ते भी भौंकना बंद कर जाके कहीं सो जाते हैं

और चारो और खड़े अंधेरे आपस में बतियाते हैं

जब रात का सूनापन मन पर भी छा जाता है

और कर कर चाँद से बातें दिल भी थक जाता है

तब सोचता हूँ क्यूँ मैंने तुमको याद किया

बस एक पल सोचा तुम्हे और सारा दिन बर्बाद किया

शायद अधचेतना(subconsciousness) में ही पड़े रहने देता तुम्हे

तो आधी रात को बैठा ये सब न सोचा करता मैं

Friday, August 13, 2010

I don’t want to die

Wrote this poem during the history class when teacher was detailing the scene of partition. Its the cry of a freedom fighter dying just before independence.

 

I don’t want to die

I don’t want to die

Nation still needs me

I don’t want to die

I don’t want to die

 

Still millions of hungry

and thousands of thirsty

must quench their thirst

give them food

and a right to life

I don’t want to die

I don’t want to die

 

The peace still fears us

violence inhibits us

lips are strained

and red are the eyes

chaos prevails

order is gone

laughs are lost

and I can hear only the cries

How can I die?

How can i die?

 

Orphans, homeless and the dead

staring into my eyes

asking why God was so ruthless

and they were victimised

Answerless as I am

but not lost, am I?

will lead the path

find a way out

and answers I don’t have

but committed to find

so I want to live

and don’t want to die

and don’t want to die

 

I sailed ship of hopes

through dark, endless sea

can’t loose it now

after all the odds I defied

The shore is near

and it needs last push

but why winds have stopped

and nothing seems to move?

Why all my efforts swing in vacuum

leaving the ship midway

without any hope

to make it to the shore

O Lord! Heed me please!

Heed me please

I plead for my life

look ‘m crying

give me my life

 

I just want to see the dawn of freedom

want to feel the calmness of peace

and let laughs echo in my mind

Want to feel the winds of happiness

give me some breaths

Try! at least Try!

Try! at least Try!

I don’t want to die!

I don’ want to die!

I don’ want to die!

Thursday, August 5, 2010

आशा और निराशा

देख पाता हूँ जहाँ तक, अंधकार लहराता है

देखने को प्रकाश यहाँ, मन तरस सा जाता है

छोटे छोटे दिये कई, लगे हैं तूफानों से लड़ने में

पर प्रभंजनो(cyclones) के समक्ष, उनका दम टूट सा जाता है

 

मन को है विश्वास यही, उस  पार किरण कोई होगी

अंधेरो को दूर करने में, जो स्यात(perhaps) सक्षम होगी

पर कैसे सम्भालूँ नाव को अपनी, मैं इस तम(darkness) के सागर में

सागर अनंत है, नाव बड़ी, पतवार मेरी पर छोटी

 

कभी बीज बोया मेरा, धरती में ही मर जाता है

कभी खड़ी फसल में, घुन कोई लग जाता है

वैशाखी मनाये हुए जैसे, मुझको बरसों बीत गए

हर वैशाखी को मुझको अपना श्राध मनाना पड़ता है

 

उड़ना भी न सिखा था उसने, जब व्याध(hunter) ने पर काट दिए

ना छूट भागे चंगुल से, यह सोच पैर भी बांध दिए

आस धरोहर छोड़ी खग(bird) ने, आने वाली पीढ़ी को

पर आस ना छोड़ी उसने, चाहे प्राण भी त्याग दिए

 

यह संघर्ष सत्य है, शाश्वत(continuous) है,  ज्ञात है इतना मुझको

जलते रहना है अंत तक, पड़े सहना ही कितना मुझको

धरोहर आस की मुझको, जो मेरे पूर्वज छोड़ गए

बना सत्य उस आस को, देनी है धरोहर भी मुझको

बना सत्य उस आस को, देनी है धरोहर भी मुझको

Saturday, July 31, 2010

गुदगुदी है ख्यालो सी

गुदगुदी है ख्यालों सी
तमन्ना जैसे सालों की
झूमती ओस की बूंदों जैसी
खिलती गुलाबों की डाली सी

बरसती बातों जैसी वो
छा जाती रातों जैसी वो
चाँद जैसी उसकी अदाएं
नाजुक प्यारे नातों सी वो

चंचल वो बादल सी
आँखों में सजते काजल सी
है थोड़ी सयानी वो
और है थोड़ी पागल सी

धूप के जैसी हँसती वो
फूलों के जैसी लहती वो
नाचे पत्तों के जैसे
और हवा पे चलती वो

बातें उसकी गुड़ की डली
जाने किस मिटटी से बनी
होती अगर उदास वो
लगता सूरज डूबा अभी अभी

धनक(rainbow) के जैसी रंगों भरी
बिन पंखो सी कोई परी
ताजे ताजे खेत के जैसे
महके वो कादंबरी(female cuckoo)

रूठे तो इमली सी खट्टी
करती है पल में ही कट्टी
मनाने से न मनती वो
जैसे हो छोटी सी बच्ची

बिठा सामने तुझे यूँही
बस कुछ भी कहता रहूं
और तेरी प्यारी बातों को
बस यूँही सुनता रहूं

Thursday, July 29, 2010

तुम्ही हो भावों का स्रोत और रसधार तुम्ही हो

तुम्ही हो भावों का स्रोत और रसधार तुम्ही हो |

खिल उठा था मन ये मेरा, गीत तुम्हारे सुनकर
आँखें हो उठी थी जीवित, स्वप्न तुम्हारे बुनकर
निराशाओं के दलदल में जैसे तुमने हाथ थमाया
मेरी आशाओं की भागिनी और आधार तुम्ही हो
तुम्ही हो ………....

जिस गीत में बात तुम्हारी, राग वही जीवन का
जिस मोड पर घर तुम्हारा, प्रयाग वहीँ है मन का
हंसी तुम्हारी ही करती है, सात सुरों को पूरा
मोद का मेरे तुम गायन, हर्ष का नाद तुम्ही हो
तुम्ही हो ………

दिया है तुमने कितना फिर भी, बड़ी बहुत लालसा है
रिक्त हुआ दे देकर मैं भी, फिर भी कुछ खलता सा है
गीत मेरे असमर्थ है मेरे मन के भाव बताने में
जिन भावों की तुम आत्मा और आकार तुम्ही हो
तुम्ही हो ………………..

Friday, July 23, 2010

ठहरी हुई सी जिंदगी……

चलते चलते क्यूँ ये जिंदगी अब ठहर आई सी है……

हवाओं के सामने पीठ करके हूँ खड़ा मैं
डूबने के डर से आँखें मूँद कर हूँ खड़ा मैं
पैरों के नीचे है नाव चलती उछलती और ठहरती
छोड़ खुद को सहारे पे लहरों के खड़ा मैं
जिन लहरों के सहारे तैरती आई जिंदगी अब तक
क्यूँ साथ चलने में उनके, लगती अब कठिनाई सी है
चलते चलते क्यूँ …………….

जिंदगी के कई लम्हे हमने हंसकर थे बिताए
कुछ लम्हे पलकों पे रखके ख्वाब कल के थे सजाये
कुछ लम्हे नींदों से हमारी आँख मिचौली करते रहे हैं
और कुछ जागने पर, थे संग हमारे मुस्कुराए
आँखों में वो सरे लम्हे, बन जिंदगी अब भर आये हैं
ले पोटुओं(fingertips) पे जिनको हमने जिंदगी छिटकाई सी है
चलते चलते क्यूँ …………….
शोर में छिपी भीड़ की रुलाई और हंसी है
कानों को बेहाल करना शोर की एक बेबसी है
तन्हाई भी कहाँ रहने देती है मन को तन्हा
तन्हाई की हर घडी, यादों के शोर में लसी(drenched) है
शोर बहार है भीड़ का और तन्हाई का है अंदर
लगती तन्हाई के शोर से अच्छी, भीड़ की तन्हाई सी है.
चलते चलते क्यूँ …………….

Tuesday, July 13, 2010

सब बेकार की बातें हैं……..

(Word meanings : प्रतिभूति – guarantee; परमार्थ – doing good to others)

भला क्या है बुरा है क्या, सब बेकार की बातें हैं

स्वर्ग क्या है नर्क है क्या, कौन देख यहाँ पाया है
कौन है ऐसा जो मरकर वापिस लौट कर आया है
कौन पुण्य प्रतिभूति देता, किसी को स्वर्ग दिलाने की
किस पाप के करण कोई नर्क भोगकर आया है
स्वर्ग नर्क की परिभाषा, मुझे न अब बतलाओ तुम
ये सब तो टाट कमंडल लेकर फिरने वालो की बातें हैं
भला क्या है ……………….

कोई गिरा तो देख उसे, हंसकर खुश हुआ था मैं
मैं गिरा तो खिलखिलाकर, खूब हंसा था वह
ये एक दूसरे के ऊपर, हँसने का चक्र अनंत है
अपने न गिरने की खुशी में कैसे कोई चुप रहे
दुःख शोक प्रकट करने का, व्यवहार मुझे न अब सिखलाओ तुम
ये सब तो तथाकथित संवेदनशीलों की बातें हैं
भला क्या है………………….

किसी के लिए कुछ न किया, तो स्वार्थी जग ने नाम धरा
किसी को जब सब दे बैठा, तो ढोंगी  इसने मुझे कहा
जिसके नाम किया था सब कुछ, कहे वो भी दीवाना मुझे
इस स्वार्थ परमार्थ के चक्कर में जाने मैंने क्या क्या न सहा
दान धर्म और मानवता के, किस्से न अब सुनाओ मुझे
ये सब देवों की हैं, कहाँ मानव के लिए ये बातें हैं
भला क्या है……….

Friday, July 2, 2010

Dump Modi, what an idea SirJi

First Patnaik and then Nitish, the BJP stands almost alienated after most of its allies have preferred to get parted from NDA. The NDA, which was a coalition of almost 27 parties during 13th LokSabha, has reduced to a membership of only 13 parties. In that too the major regional force is only one – Nitish Kumar’s JD(U). BJP was one of the fastest growing party from 1980 to 1998 elections. What happened to the party and are there any chances for its revival?

Bhartiya Jan Sangh was rechristened as Bhartiya Janta Party in a bid to gain new political grounds. The new BJP chose to build its base on three issues as its foundation pillars, unnecessary to be mentioned all were based on Hindutva and Divisive politics. The three issues were Uniform Civil Code(UCC), Ram Mandir and art 370 of the constitution which is related to autonomy of the Jammu and Kashmir state. All issues were framed in a manner that Hindus felt that they were being discriminated.

UCC is nothing but unification of secular laws of a religion like Marriage, adoption, inheritance etc. By Secular laws we mean something which does not form core part of a religion and are more tradition based. Hindus have got a more modern secular law framework in the country but because of opposition of Muslim fundamentalists the government have not been able to do the same for Muslims in the country. But it does not mean that Hindus are being discriminated. The issue was presented in this way by BJP that now its almost impossible to bring UCC which is also one of our constitutional goals enshrined in Directive Principles of State Policy.

Ram Mandir was the corner stone of BJP’s divisive politics. It acted as a fuel in the not so communalised emotions in 1990’s. The home grown Jihadists are direct products of the incident which happened on 6th Dec 1992.

Art 370 was kind of a negotiation between the people of Kashmir and Government of India when Kashmir agreed to join Union of India. Over the time most of the provisions almost stand ineffective because of the multiple restrictions and practically J&K has hardly any automny. But the issue is politicised now buddy, so obviously it can never be resolved.

Coming back to the BJP crisis, BJP based upon those agendas came to power in 1998. But now it was impossible to implement what it has desired for so long. Soon it lost its base and the India Shinned but not the BJP. After Gujrat Pogrom and Orissa killings, most of the allies preferred to walk away. BJP was back to its hindutva agenda after loss in 2004 elections, but it realised after 2009 elections that its not possible to befool people for long. Since then its been trying to change its image. The first step was to reap in Gadkari as president. And there are speeches regarding the development etc. But people know still the roots lie deep down the land of communalism which is a quagmire for BJP. If BJP really wants to convince people that it has changed and it could pose a serious alternative to Congress regime, it would have to fire Modi and Varun Gandhi.

Though Modi is also the modern face of BJP and has brought prosperity in Gujrat but the fact remains that even if you are God, you cannot kill people just because they don’t belong to your religion. Getting rid of him is a bit risky task and BJP might become Dhobi Ka Kutta, but that will not make any difference as the demise has already heralded. The firing of communal elements might give BJP a chance to have a peaceful demise or might act as a shot in the arm.

मेरी मधुशाला

हाला = vine; मधुशाला = bar /  tavern ;साकी = bargirl (though it looks derogatory but cdn’t find a better word in english, literal persian meaning is cupbearer)

सुबह मोहिनी अरुण(color of rising sun) है मुख सी, रात का रंग केशो सा काला
इन्द्रधनुष में हंसी तुम्हारी, गुलाबों में रंग अधरों(lips) वाला
ये आदि अनादी प्रकृति सारी, ऋणी तुम्हारी लगती है
नीरस जग को रुचिकर करती, तुम्हारी रंगकोष सी मधुशाला

युगों युगों से नदियों ने सागर को दिया मृदु जल हाला
फिर भी सागर किंचित ना बदला, रहा वह खारा का खारा
मेरे ह्रदय सागर की प्रिये पर, सारी कड़वाहट घुल जावेगी
एक बूँद का दान भी दे दे, यदि तुम्हारी मधुशाला

कब तक मैं खड़ा रहूँगा लेकर ऐसे ही प्याला
कब तक तुम लाओगी बार बार भरकर प्याला
ए साकी तोड़ दो बंधन आज हर प्याले हाला का
बन जाओ सखी मेरी कर दो नाम मेरे ये मधुशाला
 
सूखे छिटके मन सा फिरा मैं दर दर लेकर प्याला
देखे मदिरालय अनेक चखी तरह तरह की हाला
न प्यास बुझी न कोई भी बूँद असर कर पाई मुझ पर
तृप्ति मिली बस तेरी चौखट पर, धन्य हो तेरी मधुशाला
 
रूप सौंदर्य के चक्कर में कितनों ने जीवन जला डाला
बर्बाद हो गया वह पड़ा प्रेम से जिस जिसका पाला
कहने वाले कहते हैं यम बसते तेरे मदिरालय में
आकर तो देखे कोई तुझे औ’ स्वर्ग सी तेरी मधुशाला
 
आँखें तेरी सजी हुई हैं बनकर के साकी बाला
प्रतीक्षा ज्यूँ कर रही हो अधरों में भरकर हाला
बूँद बूँद होठो से प्रिये क्यूँ व्यर्थ मधु गिराती हो
सावन सी बरसो मुझ पर खाली करदो अपनी मधुशाला
 
मंदिर में भगवान मिले और मस्जिद में अल्लाह ताला
मंदिर मस्जिद में जाने पर, पर ध्यान कहाँ लगने वाला
चंचल चितवन प्रिये तुम्हारा ध्यान योग्य ऐसा है कुछ
धूनी(meditation) रमा बैठा हूँ अब पीने को तुम्हारी मदिर हाला
 
दूर लक्ष्य है कितना अभी सोचे पथ पर चलने वाला
ताप खींचे प्राण उसके, आस में सूखा उसका प्याला
मेरे लिए तो अहो प्रिये, पर्याप्त ध्यान तुम्हारा है
तुमसे मिलने की आशा ही, बन जाती है अमृत हाला
 
सुबह जागते ही सूरज ने, पहनाई तुम्हे रश्मि(Sunrays) माला
सिमट गई धूप यूँ मुख पर, जैसे प्याले में हाला
आँखों से अपनी प्रिये इस दृश्य को कैसे न पियूं
कहाँ मिलेगा इन्हें मधु ऐसा, कहाँ मिलेगी ऐसी मधुशाला.
 
ना सोचो तुम ही एक पिलाने वाली, अद्वितीय साकी बाला
न सोचो बिना तुम्हारे, कोई न भर पायेगा प्याला
प्रिये मेरे मदिरालय में आकर तो देखो तुम कभी
प्रेम मधुर है मदिरा मेरी, हृदय है मेरा मधुशाला
 
किस कुशल शिल्पकार ने तुम्हे, इस सुन्दर सांचे में ढाला
हो संतुष्ट कुशल कृति से फिर, भर दी प्राणों की हाला
तुम जैसी रचना वह कभी न कर पाया होगा फिर
लगता है तुम पर ही उसने खाली कर दी अपनी मधुशाला
 
आखें नशीली हैं इतनी ज्यूँ देवलोक की हो हाला
हिरणी सी चंचल हैं फिर भी ओढ़े हैं हया की दुशाला
देखकर जब मन मेरा  कह पियो पियो ललचाता है
बनता है साकी काजल तुम्हारा, नयन बनते हैं मधुशाला

कभी कभी क्यूँ लगता है तुम मिथ्या(illusion) हो साकी बाला
न ही विश्वसनीय हो तुम तुम न ही तुम्हारी मृदु हाला
मोहपाश में बांध सभी को तुम स्वप्न सुखी दिखलाती हो
वो स्वप्न सभी हैं एक भरम, है भरम तुम्हारी मधुशाला

जान कर भी सब मैंने, खुद को भरम में नित डाला
जान कर भी तुझको हरजाई, सारा प्यार न्यौछावर कर डाला
जन कर भी सब कुछ मैंने सच्चाई नशे में है मानी
माना सब कुछ एक भरम, मानी बस एक सच्ची मधुशाला

भूल जाऊं तेरा सब कुछ, हर यत्न मैंने कर डाला
भूल जाऊं हर प्रसंग तेरा एक स्वप्न समझकर काला
पर हर घूँट के साथ सभी घाव हरे हो जाते हैं
न हर पाती दुःख मेरा, जग दुःख हरिणी मधुशाला

विष जैसा लगता है अब सौंदर्य जो कभी था हाला
कड़वाहट भर गई है मन में, जो पिया सच्चाई का प्याला
अच्चा था वह झूंठ ही जिसमें, नाचा करते थे सब संग मेरे
अब रोता हूँ मैं फूट फूट, खड़ी मूक देखती मधुशाला

कल तक थी जो कादंबरी(female cuckoo), अब करती है कानो में छाला
बातें उसकी झूंठी सारी, चुभती हैं हृदय में बन भाला
चींखें अपनी और किसी को सुनने देता नहीं हूँ मैं
एक साकी के घात के कारण क्यूँ बदनाम हो मधुशाला

पड़ा पड़ा अकेला कबसे, प्रतीक्षा करता है प्याला
ना अब तक है साकी आया, ना कोई पीने वाला
कल तक जहाँ बैठ सभी, पियो पियो चिल्लाते थे
भांय भांय अब करती है श्मशान बनी है मधुशाला

बहुत खुश हुआ जब कोई, उठाया उसने कर में प्याला
दुःख में डूबा जब वह, तब भी साथ था वही प्याला
मानव ही दुःख में हाथ पकड़, सुख में छोड़ा करते हैं
साथ बैठ हर खुशी मनाती, हर दुःख बांटती मधुशाला

मृदु  भावों के अंगूरों की जो बना लाया था हाला
प्रेरित हो जिससे में, जीता जीवन की मधुशाला
मधु, हाला, प्याला, साकी को जिसने नयी परिभाषा दी
उन ‘बच्चन’ के चरणों में अर्पित ये मेरी मधुशाला